Tuesday , June 25 2019
Breaking News
Home / ताजा खबर / सक्सेस गुरु ए के मिश्रा ने दिया  सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रहे छात्रों को दिया प्रेरणादायी व्याख्यान

सक्सेस गुरु ए के मिश्रा ने दिया  सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रहे छात्रों को दिया प्रेरणादायी व्याख्यान

जयपुर| प्रख्यात सक्सेस गुरु और चाणक्य आईएएस एकेडमी के डायरेक्टर ए के मिश्रा ने आज जयपुर में प्रशासनिक सेवा परीक्षाओं की तैयारी कर रहे विधार्थियों को सफलता पाने को प्रेरित करते हुये जीवन से रूबरू करवाया चाणक्य आईएएस एकेडमी की ओर से प्रशासनिक अधिकारी बनने के इच्छुक छात्र छात्राओं के लिए आयोजित निशुल्क सेमिनार में  श्री मिश्रा ने कहा कि जीवन में सफलता पाने के लिए स्वयं को प्रेरित करते रहना सबसे ज़रूरी है और ये ही  बात सिविल सेवा परीक्षा के लिए भी लागू होती है। इस अवसर पिछले साल  प्रशासनिक सेवा परीक्षाओं में सफल रही अल्मा अफरोज ने ,जो कि भारतीय पुलिस सेवा के लिए चयनित हुई है ने अपने जीवन के अनुभव छात्र छात्राओं से शेयर किए । 
अपने प्रेरणादायी व्याख्यान में उन्होंने प्रशासनिक अधिकारी बनने के इच्छुक छात्र छात्राओं का आह्वान किया कि उन्हें जीवन में आने वाली असफलताओं से डर के हताश होने की ज़रूरत नहीं है बल्कि एक एक असफलता के बाद आगे  के बारे में सोचना चाहिए और पूरी तैयारी से अगली परीक्षा  देनी चाहिए। अल्मा अफरोज  ने बताया कि आईएएस बनने के लिए नियमित अध्ययन और कड़ी मेहनत जरूरी है। टीवी और अखबार के जरिये देश-विदेश के घटनाक्रम से नियमित तौर पर अपडेट रहें। अगर किसी मुकाम को हासिल करना है तो पढ़ाई के साथ-साथ जरूरी है कि खुद को उन बातों से दूर रखें, जिसमें वक्त बर्बाद होता हो। सफलता तभी कदम चूमती है, जब आप खुद को प्रेरित करते रहें और पूरी मेहनत करें। 
अल्मा अफरोज ने छात्र छात्राओं से रूबरू होते हुए कहा कि वे एक छोटे से गाँव कुंदरकी , जिला मुरादाबाद (UP )की रहने वाली है । बचपन में ही उनके किसान पिता का साया उठ गया और उनकी अम्मी सुहेला अफरोज ने उनका पालन पोषण किया । उनके रिश्तेदार उनकी मम्मी से अल्मा की शादी की बात कहते थे लेकिन उनकी मां व उन्होंनें बडे सपने देखे और उनको पूरा करने के लिए कडी तपस्या की। उन्होंने अपनी शिक्षा दिल्ली विश्वविद्यालय पूरी की। दर्शनशास्त्र से स्नातक करने के बाद वे स्कॉलरशिप पर इंग्लैंड चली गयी और उच्च शिक्षा के लिए फिर अमेरिका । वहां उन्होंने कुछ समय जॉब किया लेकिन उनका दिल और दिमाग़ भारत में बसता था  इसलिए उन्होंने वापस भारत आने का फ़ैसला किया और भारतीय प्रशासनिक सेवा के ज़रिये समाज सेवा का संकल्प लिया और वे फिर से तैयारी में जुट गई। 
 उन्होंने कहा कि वे एक साधारण परिवार से हैं उनके पिता के निधन के बाद अम्मी सुहेला अफरोज ही उनकी मां और पिता बन गई। उन्होंने अपना एक संस्मरण बताते हुए कहा कि जब उनका साक्षात्कार हुआ तो बोर्ड ने उन्हें भारतीय विदेश सेवा में जाने की सलाह दी लेकिन देश प्रेम उन्हें भारतीय पुलिस सेवा में लेकर गया। उनका सलेक्शन 2018 में भारतीय पुलिस सेवा में हुआ है । उन्होंने सभी छात्र छात्राओं से कड़ी मेहनत करने की अपील की।
 इस अवसर पर  चाणक्य एकेडमी जयपुर ब्रांच की अध्यक्ष मनीषा भारद्वाज ने बताया कि चाणक्य आईएएस एकेडमी  छात्रों को सही मार्गदर्शन देने की दिशा में हमेशा ही प्रयासरत रहती है और  एकेडमी ने विशेष पाठ्यक्रम  भी तैयार किया है जिससे कॉलेज शिक्षा के दौरान ही छात्र सिविल सर्विसेज की तैयारी शुरू कर सकेंगे। चाणक्य आईएएस एकेडमी का गठन 1993 में किया गया था देश भर में इसकी 20 से अधिक शाखाएं हैं। चाणक्य एकेडमी में अध्ययन कर चुके 4000 से अधिक छात्र छात्राओं का सिविल सर्विसेज में सिलेक्शन हो चुका है। इससे पूर्व चाणक्य आईएएस एकेडमी के डायरेक्टर ए के मिश्रा का बर्ड फ्रीडम कैंपेन के संस्थापक विपिन कुमार जैन ने मोमेंटो देकर स्वागत किया । इस मौक़े पर राजस्थान हाईकोर्ट कर्मचारी संघ के अध्यक्ष ऋतुराज शर्मा , एडवोकेट ललित शर्मा राजस्थान कैथलिक एसोसिएशन के पूर्व उपाध्यक्ष माइकल कैसलीनो समेत अनेक गणमान्य नागरिक भी मौजूद रहे ।

Check Also

‘‘अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस’’ पर भाजपा नेताओं ने किया योग

जयपुर, 21 जून 2019। भारतीय जनता पार्टी द्वारा आज ‘‘अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस’’ के अवसर पर प्रदेशभर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *