Monday , December 10 2018
Breaking News
Home / ज्योतिष / कालसर्प दोष: सच या झूठ….!
मकर सँक्रान्ति

कालसर्प दोष: सच या झूठ….!

कालसर्प दोष एक ऐसा दुर्याेग है जिसका नाम सुनते ही जनमानस में भय व चिंता व्याप्त हो जाती है। कुछ विद्वान इसे सिरे से नकारते हैं तो कुछ इसे बढ़ा-चढ़ाकर प्रस्तुत करते हैं। मेरे देखे दोनों ही गलत हैं। ‘कालसर्प दोष’ को ना तो महिमामण्डित कर प्रस्तुत करना सही है और ना ही इसके अस्तित्व पर प्रश्नचिन्ह लगाना उचित है। ‘कालसर्प’ दोष जन्मपत्रिका के अन्य बुरे योगों की तरह ही एक बुरा योग है जो जातक के जीवन में दुष्प्रभाव डालता है। शास्त्रों में इसे ‘सर्पयोग’ के नाम से स्वीकार किया गया है। इसके अस्तित्व को ही नकारने वाले विद्वानों को तनिक इस बात पर भी ध्यान देना चाहिए कि जब ‘कर्तरी’ दोष से जिसमें केवल एक ग्रह या भाव के दो पाप ग्रहों के मध्य आ जाने से उस ग्रह व भाव के समस्त शुभ फल नष्ट हो जाते हैं तब क्या सभी ग्रहों व एकाधिक भावों के राहु-केतु के पाप मध्यत्व से उनके शुभफल नष्ट नहीं होंगे? ‘कालसर्प’ दोष भी ‘कर्तरी’ दोष के समान ही है। वराहमिहिर ने अपनी संहिता ‘जानक नभ संयोग’ में इसका सर्पयोग के नाम से उल्लेख किया है। वहीं ‘सारावली’ में भी ‘सर्पयोग’ का वर्णन मिलता है। ‘कालसर्प’ दोष के संबंध में सबसे अधिक प्रामाणिक तथ्य है हिन्दू संस्कृति में सर्वाधिक मान्य द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक त्रयम्बकेश्वर के विद्वानों द्वारा इसे स्वीकार व मान्य करना। यदि ‘कालसर्प’ दोष का कोई अस्तित्व ही नहीं होता अथवा यह योग मिथ्या प्रचार होता तो प्राचीन और मान्य ज्योतिर्लिंग त्रयम्बकेश्वर में शांति विधान के नाम पर यह आज तक क्यों स्वीकार किया जाता। ‘कालसर्प’ दोष के झूठे होने का आशय यह हुआ कि हमारा सर्वाधिक प्रतिष्ठित और मान्य तीर्थस्थान व्यवसायिकता का केन्द्र मात्र है जो अपने व्यवसायिक लाभ के लिए ‘कालसर्प’ दोष का मिथ्या प्रचार कर रहा है। दोनों में से कोई एक ही तथ्य सत्य हो सकता है। अतः कालसर्प दोष से अत्यधिक भयभीत हुए और इसे अस्वीकार किए बिना इसकी विधिवत् शांति करवाएं।

-ज्योतिर्विद् पं. हेमन्त रिछारिया

Check Also

वास्तु विशेषज्ञ

वास्तु विशेषज्ञ बनने की दिशा में दो दिवसीय नि:शुल्क वर्कशॉप एवं चर्चा – परिचर्चा कार्यक्रम जयपुर में दिनांक 2 एवं 3 जून को

श्री सिद्धान्त ज्योतिष, वास्तु एवं रेकी शोध केन्द्र द्वारा वास्तु विशेषज्ञ बनने की दिशा में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *